×
userImage
Hello
 Home
 Dashboard
 Upload News
 My News
 All Category

 News Terms & Condition
 News Copyright Policy
 Privacy Policy
 Cookies Policy
 Login
 Signup
 Home All Category
Sunday, Jul 14, 2024,

Environment / NationalNews / India / Kerala / Munnar
मुन्नार : दक्षिण भारत का प्रसिद्ध हिल स्टेशन ज्यों है स्वर्ग के समान

By  AgcnneduNews... /
Mon/Jul 08, 2024, 02:51 AM - IST -72

  • मुन्नार, भारत के केरल राज्य में स्थित एक प्रमुख हिल स्टेशन है, जो अपने अद्वितीय प्राकृतिक सौंदर्य और चाय बागानों के लिए प्रसिद्ध है।
  • 19वीं सदी के अंत में ब्रिटिश लोग मुन्नार पहुंचे और इसकी सुंदरता और जलवायु से प्रभावित होकर इसे एक हिल स्टेशन के रूप में विकसित किया।
Munnar/

मुन्नार/मुन्नार, भारत के केरल राज्य में स्थित एक प्रमुख हिल स्टेशन है, जो अपने अद्वितीय प्राकृतिक सौंदर्य और चाय बागानों के लिए प्रसिद्ध है। मुन्नार एक मलयालम शब्द है जिसका अर्थ है तीन नदियों का समागम। मुन्नार, पश्चिमी घाट पर्वत श्रृंखला में स्थित है, जो तीन नदियों - मदुपेट्टी, नल्लथन्नी और कुंडला के संगम पर बसा हुआ है। यह स्थान समुद्र तल से लगभग 1,600 मीटर यानि 5,200 फीट की ऊंचाई पर स्थित है।

मुन्नार अपने विस्तृत चाय बागानों, धुंधली पहाड़ियों, और हरे-भरे जंगलों के लिए जाना जाता है। यहां की हरियाली और ठंडी हवा पर्यटकों को आकर्षित करती है। मुन्नार की जलवायु पूरे साल भर सुखद रहती है। गर्मियों में तापमान 15°C से 25°C के बीच रहता है, जबकि सर्दियों में तापमान 5°C से 15°C के बीच गिर सकता है। मॉनसून के दौरान यहां भारी वर्षा होती है। मुन्नार का सांस्कृतिक महत्व भी बहुत है। यहाँ पर विभिन्न त्योहार मनाए जाते हैं, जिनमें ओणम, विशु और दीपावली प्रमुख हैं। स्थानीय भोजन में केरल के पारंपरिक व्यंजन प्रमुख होते हैं जैसे कि अप्पम, स्टू और समुद्री भोजन।
मुन्नार का इतिहास कई सदी पुराना है और यह क्षेत्र अपनी भौगोलिक और सांस्कृतिक विविधता के लिए जाना जाता है। यहाँ आदिवासी जनजातियों, ब्रिटिश शासन और चाय बागानों की स्थापना का महत्वपूर्ण योगदान है। मुन्नार के इतिहास को समझने के लिए हमें इसके प्राकृतिक परिवेश, बस्तियों और विदेशी प्रभावों के विकास को जानना आवश्यक है।
 
प्राचीन काल से ही मुन्नार का क्षेत्र महत्वपूर्ण माना जाता रहा है क्योंकि यहां की पहाड़ियों और घाटियों में प्राचीन मानव बस्तियां होने के प्रमाण मिले हैं, जो इस क्षेत्र के लंबे इतिहास को दर्शाते हैं।
19वीं सदी के अंत में ब्रिटिश लोग मुन्नार पहुंचे और इसकी सुंदरता और जलवायु से प्रभावित होकर इसे एक हिल स्टेशन के रूप में विकसित किया। इसके बाद मुन्नार का विकास एक प्रमुख चाय उत्पादक क्षेत्र के रूप में हुआ। 1877 में, हेनरी टर्नर माइल्स और जॉन डेनियल मुनरो नामक ब्रिटिश प्लांटर्स ने मुन्नार में चाय बागानों की स्थापना शुरू की। उन्होंने यहाँ की भूमि को लीज पर लिया और यहां चाय, कॉफी और इलायची की खेती शुरू की। 1895 में, कन्नन देवन हिल्स प्रोड्यूसर्स कंपनी (KDHP) की स्थापना हुई जो बाद में टाटा टी कंपनी के रूप में जानी गई। इस तरह से मुन्नार की अर्थव्यवस्था में चाय की खेती का एक बड़ा योगदान रहा।
 
स्वतंत्रता के बाद मुन्नार का विकास जारी रहा और 20वीं सदी के उत्तरार्ध और 21वीं सदी में मुन्नार एक प्रमुख पर्यटन स्थल के रूप में उभरा। यहाँ के प्राकृतिक दृश्यों, हरे-भरे चाय बागानों और पहाड़ी इलाकों ने इसे पर्यटकों के बीच लोकप्रिय बना दिया। टाटा टी कंपनी ने क्षेत्र के चाय बागानों का प्रबंधन संभाला और यहां के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। मुन्नार का टाटा टी म्यूजियम और एराविकुलम नेशनल पार्क जैसे स्थल पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। आज, मुन्नार अपने चाय बागानों, राष्ट्रीय उद्यानों, और प्राकृतिक सौंदर्य के लिए विश्व प्रसिद्ध है।
मुन्नार का क्षेत्र विभिन्न आदिवासी समूहों का घर भी है, जैसे कि मन्नान, पड्डार और मलयाली। इन आदिवासी समुदायों ने यहां के पारंपरिक जीवन और संस्कृति को समृद्ध किया है। मुथुवन जनजाति ने इस क्षेत्र को अपनी आजीविका का स्थान बनाया और यह जनजाति आज भी मुन्नार की पहाड़ियों में रहती है।
 
मुन्नार के प्रमुख आकर्षण:
  1. चाय बागान: मुन्नार में विशाल चाय बागान हैं जहां आप चाय की खेती और उत्पादन प्रक्रिया देख सकते हैं। टी प्रोसेसिंग इकाई में आप चाय बनने की पूरी प्रक्रिया को करीब से देख व समझ सकते हैं।
  2. टाटा टी म्यूजियम: यह भी यहाँ का एक प्रमुख आकर्षण है। म्यूजियम में 1880 में मुन्नार में चाय उत्पादन की शुरुआत से जुड़ी निशानियाँ आज भी आप देख सकते हैं। 
  3. एराविकुलम नेशनल पार्क: यह पार्क नीलगिरी तहर (एक लुप्तप्राय प्रजाति की बकरी) का घर है। अनामुडी शिखर, जो दक्षिण भारत की सबसे ऊंची चोटी है, इसी पार्क में स्थित है। यह उद्यान मुन्नार से 15 किमी की दूरी पर स्थित है।
  4. अनामुडी शिखर: यह दक्षिण भारत का सबसे ऊंचा पर्वत है जो ट्रेकिंग के लिए प्रसिद्ध है।
  5.  कुंडला झील: यह एक कृत्रिम झील है, जहां आप नौका विहार का आनंद ले सकते हैं।
  6. टॉप स्टेशन: यह मुन्नार का सबसे ऊंचा स्थान और इस क्षेत्र का सबसे ऊंचा रेलवे स्टेशन है। इस हिल स्टेशन को चाय की डिलीवरी के लिए एक ट्रांसशिपमेंट पॉइंट के रूप में जाना जाता है। यह मुन्नार से लगभग 32 किमी की दूरी पर स्थित है और केरल और तमिलनाडु की सीमा पर स्थित है। यह स्थान पश्चिमी घाट के मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है और नीलकुरिंजी फूलों के लिए प्रसिद्ध है, जो हर 12 साल में एक बार खिलते हैं।
  7. माटुपेट्टी डैम: मट्टुपेट्टी डैम और झील पानी के खेल यानि वाटर एक्टिविटी और पिकनिक के लिए एक लोकप्रिय स्थान है। यह जगह समुद्र तल से 1700 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।
  8. अथुकड फॉल्स: अथुकड फॉल्स मुन्नार का एक प्रमुख पर्यटक स्थल है जो मुन्नार से 8 किमी दूर कोच्चि रोड पर स्थित है। इसी रास्ते में दो और झरने भी है- चियापरा और वलार फॉल्स।
  9. इको पॉइंट: यह स्थान कुंडल झील के किनारे स्थित बादलों के कोहरे, पहाड़ियों, हरे-भरे घास के मैदानों और जंगलों से घिरा है जहां चिल्लाने पर आप अपनी ध्वनि को प्राकृतिक प्रतिध्वनि के रूप में इको में सुन सकते हैं। यह मुन्नार से 15 किमी दूर स्थित है।
कैसे पहुंचे मुन्नार:
मुन्नार पहुंचने के लिए कोचीन इंटरनेशनल एयरपोर्ट सबसे नजदीकी हवाई अड्डा है जो लगभग 110 किलोमीटर दूर है। निकटतम रेलवे स्टेशन अलुवा है जो भी लगभग 110 किलोमीटर की दूरी पर है। मुन्नार सड़क मार्ग से भी अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है और केरल तथा तमिलनाडु के विभिन्न शहरों से यहाँ बसें चलती हैं।
 
मुन्नार एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें प्राकृतिक सौंदर्य, औपनिवेशिक प्रभाव, स्थानीय संस्कृति और चाय बागानों की स्थापना का समागम है। यह हिल स्टेशन न केवल अपने भव्य दृश्यों के लिए प्रसिद्ध है, बल्कि यहां की सांस्कृतिक और पर्यावरणीय धरोहर भी इसे विशिष्ट बनाती है। यह स्थान प्रकृति प्रेमियों, फोटोग्राफरों, और शांति की खोज करने वालों के लिए विशेष रूप से आकर्षक है।
By continuing to use this website, you agree to our cookie policy. Learn more Ok